बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • मुजफ्फरपुर में बैखौफ अपराधियों ने पंजाब नेशनल बैंक में की लूट की कोशिश, विरोध करने पर बैंक के गार्ड को मारी गोली, हथियार ले हुए फरार
  • मुजफ्फरपुर में बैखौफ अपराधियों ने पंजाब नेशनल बैंक में की लूट की कोशिश, विरोध करने पर बैंक के

  • लालू की राह पर चल रहे तेजस्वी...अपराधियों के साथ राजद का पुराना रिश्ता, कथित शार्प शूटर की तेजस्वी से मुलाकात पर BJP का प्रहार
  • लालू की राह पर चल रहे तेजस्वी...अपराधियों के साथ राजद का पुराना रिश्ता, कथित शार्प शूटर की तेजस्वी

  • भाजपा के भगावे के बा नू, रउआ लोग के आशीर्वाद बा नू, लड़ाई लडे़ के बा नू.... , बक्सर में भोजपुरी अंदाज में तेजस्वी यादव ने जनता का जीता दिल...
  • भाजपा के भगावे के बा नू, रउआ लोग के आशीर्वाद बा नू, लड़ाई लडे़ के बा नू.... ,

  • पटना हाई कोर्ट : बिहार मानवाधिकार आयोग में रिक्त पदों पर राज्य सरकार को तीन सप्ताह में देना होगा जवाब
  • पटना हाई कोर्ट : बिहार मानवाधिकार आयोग में रिक्त पदों पर राज्य सरकार को तीन सप्ताह में देना

  • शहर में महिला चेन स्नैचर गिरोह सक्रिय, पार्क में चोरी करती पकड़ी गई एक महिला की लोगों ने की कुटाई
  • शहर में महिला चेन स्नैचर गिरोह सक्रिय, पार्क में चोरी करती पकड़ी गई एक महिला की लोगों ने

  • वाराणसी में नरेंद्र मोदी को चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने यूपी प्रदेश अध्यक्ष पर किया भरोसा, लोकसभा चुनाव में अजय राय हो सकते हैं उम्मीदवार
  • वाराणसी में नरेंद्र मोदी को चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने यूपी प्रदेश अध्यक्ष पर किया भरोसा, लोकसभा

  • डेब्यू मैच में ही छा गए बिहार के सासाराम के रहनेवाले आकाशदीप, तेज गेंदों का सामना नहीं कर पाए इंग्लैंड के बल्लेबाज, तीन खिलाड़ियों को किया आउट
  • डेब्यू मैच में ही छा गए बिहार के सासाराम के रहनेवाले आकाशदीप, तेज गेंदों का सामना नहीं कर

  • लोकसभा चुनाव में एनडीए बिहार में बनाएगी जीत का रिकॉर्ड, संतोष सुमन ने तेजस्वी को दी बड़ी चुनौती
  • लोकसभा चुनाव में एनडीए बिहार में बनाएगी जीत का रिकॉर्ड, संतोष सुमन ने तेजस्वी को दी बड़ी चुनौती

  • नर्सिंग की छात्रा की हुई रहस्यमय तरीके से मौत, शिकायत करने पहुंची लड़कियों को पुलिस ने दी धमकी, आक्रोशित विद्यार्थियों ने काटा बवाल
  • नर्सिंग की छात्रा की हुई रहस्यमय तरीके से मौत, शिकायत करने पहुंची लड़कियों को पुलिस ने दी धमकी,

  • पटना में होटल के कमरे में शव मिलने से मचा हड़कंप , फांसी के फंदे पर लटका  मिला युवक
  • पटना में होटल के कमरे में शव मिलने से मचा हड़कंप , फांसी के फंदे पर लटका

गोपालगंज में परंपरागत तरीके से मनायी गयी गोवर्द्धन पूजा, क्या है गोवर्धन पूजा महत्व, जानिए

गोपालगंज में परंपरागत तरीके से मनायी गयी गोवर्द्धन पूजा, क्या है गोवर्धन पूजा महत्व, जानिए

गोपालगंज जिले के शहर से लेकर गांव तक गोवर्धन पूजा को लेकर महिलाओं में काफी उत्साह देखने को मिला. इस दिन बहनों ने अपने भाई की लंबी आयु के लिए  रीति रिवाज के साथ गोवर्धन भगवान की पूजा अर्चना की. इस दौरान महिलाओं ने अपने घर के द्वार पर गाय की गोबर की प्रतिमा को बनाया गया और फिर चना मिठाई नारियल समेत विभिन्न पूजन सामग्री के साथ पारंपरिक  तरीके से  पूजा-अर्चना करते हुए मंगल गीत गाया और मुसर से कुटाई की गई.

 दरअसल वर्षो पुरानी चली आ रही गोवर्धन(गोधन) कूटने की भारती संस्कृति की परंपरा निर्वहन महिलाओं ने किया. गोवर्धन पूजा को लेकर दीपावली के दिन से ही तैयारियां शुरू कर दी जाती है. घरों के आगे महिलाएं तथा लड़कियां भगवान गोवर्धन की प्रतिमूर्ति गाय के गोबर से बनाती है. इसके बाद पूजन सामग्री के साथ पूरे विधि विधान से गोवर्धन भगवान की पूजा-अर्चना कर प्रतिमूर्ति को कूटने का कार्य किया जाता है. इस संदर्भ में महिलाओ ने बताया कि यह पर्व दशकों पुराने रीति-रिवाजों के अनुसार चला आ रहा है. इसको लेकर पहले बहनों ने अपने भाई को शापित करती है और बाद में अपने जीभ में कांटा चुभाती हैं.

मान्यताओं के अनुसार शापित किए जाने से भाइयों की आयु लंबी होती है. गोवर्धन पूजा के दिन से ही हिदू धर्म शास्त्रों के अनुसार लग्न के कार्य शुरू हो जाते हैं. इसी दिन से लड़कियां पीड़िया व्रत की भी शुरुआत करती हैं. लड़कियां घरों में पीड़िया को लगाने का कार्य भी इसी दिन करती हैं. पूजा के बाद बहनों ने अपने भाइयों को बजरी खिलाकर उनकी लंबी उम्र की कामना करती है.

गोवर्धन पूजा के लिए गोवर्धन पर्वत बनाने की मान्यता के साथ इस दिन गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा भी की जाती है. आखिर गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा क्यों की जाती है. इसे लेकर धार्मिक मान्यता प्रचलित है. पौराणिक कथाओं में गोवर्धन पूजा की भी वजह बताई गई है. इनके अनुसार ब्रज पर इंद्र देवता ने जब कुपित होकर घनघोर बारिश की थी तब भगवान श्रीकृष्ण ने तूफान और बारिश से गांववालों की रक्षा करते हुए गोवर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी उंगली पर सात दिनों तक उठाकर रखा था. इस वजह से गोवर्धन पूजा की शुरुआत हुई.