बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • वाराणसी में नरेंद्र मोदी को चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने यूपी प्रदेश अध्यक्ष पर किया भरोसा, लोकसभा चुनाव में अजय राय हो सकते हैं उम्मीदवार
  • वाराणसी में नरेंद्र मोदी को चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने यूपी प्रदेश अध्यक्ष पर किया भरोसा, लोकसभा

  • डेब्यू मैच में ही छा गए बिहार के सासाराम के रहनेवाले आकाशदीप, तेज गेंदों का सामना नहीं कर पाए इंग्लैंड के बल्लेबाज, तीन खिलाड़ियों को किया आउट
  • डेब्यू मैच में ही छा गए बिहार के सासाराम के रहनेवाले आकाशदीप, तेज गेंदों का सामना नहीं कर

  • लोकसभा चुनाव में एनडीए बिहार में बनाएगी जीत का रिकॉर्ड, संतोष सुमन ने तेजस्वी को दी बड़ी चुनौती
  • लोकसभा चुनाव में एनडीए बिहार में बनाएगी जीत का रिकॉर्ड, संतोष सुमन ने तेजस्वी को दी बड़ी चुनौती

  • नर्सिंग की छात्रा की हुई रहस्यमय तरीके से मौत, शिकायत करने पहुंची लड़कियों को पुलिस ने दी धमकी, आक्रोशित विद्यार्थियों ने काटा बवाल
  • नर्सिंग की छात्रा की हुई रहस्यमय तरीके से मौत, शिकायत करने पहुंची लड़कियों को पुलिस ने दी धमकी,

  • पटना में होटल के कमरे में शव मिलने से मचा हड़कंप , फांसी के फंदे पर लटका  मिला युवक
  • पटना में होटल के कमरे में शव मिलने से मचा हड़कंप , फांसी के फंदे पर लटका

  • सौर ऊर्जा से जगमग होंगे सभी थाना एवं पुलिस भवन, सीएम नीतीश ने किया राज्य पुलिस एवं कारा व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण हेतु उद्घाटन एवं शिलान्यास
  • सौर ऊर्जा से जगमग होंगे सभी थाना एवं पुलिस भवन, सीएम नीतीश ने किया राज्य पुलिस एवं कारा

  • सब के ससुराले वाला पार्टी बा...लालू यादव के खाली ना... परिवारवाद के सवाल पर भड़की राबड़ी देवी, पीएम मोदी से लेकर आनंद मोहन तक को खूब सुनाया
  • सब के ससुराले वाला पार्टी बा...लालू यादव के खाली ना... परिवारवाद के सवाल पर भड़की राबड़ी देवी, पीएम

  • स्कूल टाइमिंग पर नहीं मानना है केके पाठक का आदेश, एमएलसी नीरज का ऐलान- सिर्फ सीएम नीतीश की बात मानें शिक्षक
  • स्कूल टाइमिंग पर नहीं मानना है केके पाठक का आदेश, एमएलसी नीरज का ऐलान- सिर्फ सीएम नीतीश की

  • हाजीपुर कोर्ट जा रहे दो बाइक सवार सड़क दुर्घटना के हुए शिकार, एक की मौके पर हुई मौत, दूसरा गंभीर रुप से जख्मी
  • हाजीपुर कोर्ट जा रहे दो बाइक सवार सड़क दुर्घटना के हुए शिकार, एक की मौके पर हुई मौत,

  • राजद विधायक सुधाकर की चुनौती,  बक्सर में दिखेगा प्रधानमंत्री के खिलाफ जनाक्रोश, सीएम नीतीश को भी दिया चैलेंज
  • राजद विधायक सुधाकर की चुनौती, बक्सर में दिखेगा प्रधानमंत्री के खिलाफ जनाक्रोश, सीएम नीतीश को भी दिया

425 साल पुरानी तेतरी दुर्गा मंदिर स्थापना की दिलचस्प है कहानी, जानें क्या है मान्यता?

425 साल पुरानी तेतरी दुर्गा मंदिर स्थापना की दिलचस्प है कहानी, जानें क्या है मान्यता?

 भागलपुर / नौगछिया-या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता नमस्तस्ये नमस्तस्ये नमो नमः...के मंत्र से  पूरा वातावरण गूंजायमान है. बिहार में इस दुर्गा मंदिरा का अनोखा और पौराणिक इतिहास रहा है,नवगछिया में एनएच 31 से एक किलोमीटर दूर तेतरी गाँव मे भव्य दुर्गा मंदिर है. मन्दिर की भव्यता देखते बनती है. बिहार झारखंड में सबसे शक्तिशाली मन्दिर के रूप में तेतरी दुर्गा मंदिर जाना जाता है.  इस मन्दिर का इतिहास 425 साल पुराना है. बताया जाता है कि 425 वर्ष पूर्व पास के कलबलिया धार में खरीक के काजीकोरैया से मेढ़ बहकर आया था. तेतरी के लोगों के सपने में मां दुर्गा आयी थी और मेढ़ की जानकारी दी और कहा उसपर प्रतिमा स्थापित करे जिसके बाद लोग कलबलिया धार पहुंचे थे और मेढ़ को लाया कुछ ही देर में काजीकोरैया के लोग मेढ़ ले जाने आये तो मेढ़ टस से मस नहीं हुआ. तेतरी के लोगों ने समीप में ही मेढ़ स्थापित किया था. स्थापना के वर्षों बाद यहां मन्दिर का निर्माण हुआ. सबसे खास बात यह कि यहां दुर्गा माँ वैष्णवी रूप में है. यहाँ जीव के बलि के बदले कोढ़ा की बलि पड़ती है. मंदिर में देवी दुर्गा की एक भव्य प्रतिमा विराजमान है, जिनकी पूजा-अर्चना के लिए सालों भर लोगों की भीड़ जुटी रहती है. दुर्गा पूजा के समय मां की प्रतिमा के आगे मां दुर्गा की अलग से भी एक प्रतिमा स्थापित कर पूजा-अर्चना की जाती है. विजयादशमी को काफी भव्य तरीके से उस प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है. विसर्जन के समय श्रद्धालुओं की संख्या लाख से ऊपर पहुंच जाती है.

दुर्गापूजा को लेकर मन्दिर में तैयारियां तेज है. मां दुर्गा की प्रतिमा को भी तैयार किया जा रहा है. षष्ठी पूजा की रात में प्रतिमा स्थापित की जाएगी. सप्तमी पूजा को प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा के साथ भव्य मेले का आयोजन शुरू होगा. मंदिर के मुख्विय पुजारी विभाषचन्द्र झा ने बताया कि यह मंदिर बहुत पुराना है. 1999 ईस्वी में यह मंदिर स्थापित हुआ है, लेकिन मंदिर का इतिहास इससे भी बहुत पुरानी है।.यह मंदिर जो है खरीक के काजीकोरैया गांव से बह कर कलबलिया धार में आया था. तेतरी गांव के लोगों ने यहां लाया और फिर प्राण प्रतिष्ठा हुआ. यह मंदिर 400 साल से भी पहले का मंदिर है. यह मंदिर वैष्णव मंदिर है यहां बलि नही दी जाती है.

 तेतरी मंदिर के महिमा अपरंपार है. यहां जो भी खाली हाथ आते है वो झोली भर कर ही जाते है. भक्तजन बहुत दूर दूर से आते है. 1600 ईस्वी में एक मेढ़ कलबलिया धार में बह कर आई थी जिसके बाद तेतरी के लोगो को स्वप्न में माता रानी आई जिसके बाद लोग मेढ़ को देखने गए और फिर मेढ़ को उठा भी जिसके बाद काजीकोरैया के लोग मेढ़ को वापस ले जाने आए लेकिन मेढ़ हिली भी नही. यह मंदिर लाखो श्रद्धालुओं के आस्था का केंद्र है. नवरात्रि के समय यहां बड़ा और भव्य मेला लगता है. यहां का विसर्जन भव्यता को और चार चांद लगाता है.