बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

LATEST NEWS

सदर अस्पताल में भर्ती मरीज की दवा से नहीं, झाड-फूंक से किया जा रहा इलाज, मजमा लगाकर तमाशा देखते रहे अस्पतालकर्मी

सदर अस्पताल में भर्ती मरीज की दवा से नहीं, झाड-फूंक से किया जा रहा इलाज, मजमा लगाकर तमाशा देखते रहे अस्पतालकर्मी

SUPAUL : अस्पताल में मरीजों का इलाज दवा से किया जाता है। लेकिन बिहार के सुपौल जिले में नजारा कुछ अलग नजर आया, यहां  इलाज कराने के लिए भर्ती बच्चे का इलाज का झाड़-फूंक से गया जा रहा था। हद तो यह हो गई कि अस्पताल परिसर में इस तरह के अंधविश्वास का तमाशा चलता रहा और बच्चे की इलाज करने की बजाय लोगों के साथ अस्पतालकर्मी भी मजमा लगाकर तमाशा देखते रहे.

दरअसल, सरायगढ़-भपटियाही प्रखंड स्थित बनैनियां वार्ड नंबर 01 ओराही गांव निवासी फुलेश्वर सिंह के 12 वर्षीय पुत्र सुमन कुमार को शुक्रवार की देर शाम कोसी नदी के किनारे घूमने के दौरान एक जहरीले सांप ने डंस लिया. परिजन बच्चे को इलाज के लिए प्राथमिकस्वास्थ्य केंद्र सरायगढ़ लेकर पहुंचे। वहां से उसे सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया. शनिवार को सदर अस्पताल में इलाज होने से पहले एक तांत्रिक महिला पहुंची।

काफी देर तक तांत्रिक महिला बच्चे का झाड़ फूंक करती रही. इसके बाद तांत्रिक महिला ने परिजनों को कहा अब बच्चे को ले जाओ. बच्चा पूरी तरह ठीक हो गया है. झाड़-फूंक करने वाली महिला सदर प्रखंड के करिहो की रहने वाली थी। झाड़फूंक करने के बाद महिला ने दावा किया कि अब किशोर ठीक हो जाएगा।

अस्पताल में ऐसा नहीं होना चाहिए

 इस पूरे मामले पर सिविल सर्जन डॉ मिहिर कुमार वर्मा ने कहा कि अस्पताल परिसर में कहीं से भी इस तरह का कार्य नहीं होना चाहिए. जहां तक उस बच्चे का सवाल है तो उसका इलाज किया जा रहा था। वैसे अगर परिजन को झाड़फूंक पर ही भरोसा है तो वे अपने घर पर कराये। अस्पताल में चिकित्सकों द्वारा इलाज किया जाता है। यहां झाड़फूंक से इलाज नहीं होता 

Suggested News