बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • भारत ने इंग्लैंड को रौंदा, सीरीज हुई मुट्ठी में, 5 विकेट से रांची टेस्ट मैच जीता
  • भारत ने इंग्लैंड को रौंदा, सीरीज हुई मुट्ठी में, 5 विकेट से रांची टेस्ट मैच जीता

  • तेजस्वी की जनविश्वास यात्रा में दिखा चोरों का तांडव, पुलिस की सुरक्षा घेरा के बीच राजद कार्यकर्ताओं के बाइक ले उड़े बदमाश
  • तेजस्वी की जनविश्वास यात्रा में दिखा चोरों का तांडव, पुलिस की सुरक्षा घेरा के बीच राजद कार्यकर्ताओं के

  • बिहार की जनता पीएम मोदी को दिखाएगी ठेंगा, जनविश्वास यात्रा के दौरान तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री के बिहार दौरे पर साधा निशाना, कहा- फिर आ रहे हैं जुमलेबाजी करने
  • बिहार की जनता पीएम मोदी को दिखाएगी ठेंगा, जनविश्वास यात्रा के दौरान तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री के बिहार

  • तेजस्वी यादव ने बदला बिहार का व्याकरण, जनविश्वास यात्रा को लेकर राज्यसभा सांसद मनोज झा ने कहा- राज्य में बदलाव के मिल रहे संकेत
  • तेजस्वी यादव ने बदला बिहार का व्याकरण, जनविश्वास यात्रा को लेकर राज्यसभा सांसद मनोज झा ने कहा- राज्य

  • बिहार में सदन से सड़क तक सियासत गरमाई, निखिल मंडल के पोस्टर को आधी रात को अज्ञात युवक ने फाड़ा, गुस्साए जदयू महासचिव ने तेजस्वी को बता दी ये हकीकत
  • बिहार में सदन से सड़क तक सियासत गरमाई, निखिल मंडल के पोस्टर को आधी रात को अज्ञात युवक

  • कटिहार पुलिस ने डकैती की योजना बना रहे पांच चोरों का रंगे हाथ दबोचा, हथियार के साथ सोना-चांदी के आभूषण बरामद
  • कटिहार पुलिस ने डकैती की योजना बना रहे पांच चोरों का रंगे हाथ दबोचा, हथियार के साथ सोना-चांदी

  • रफ्तार का कहर: नालंदा में अनियंत्रित ऑटो पलटने से आधा दर्जन से अधिक लोग हुए जख्मी, कई की हालत गंभीर
  • रफ्तार का कहर: नालंदा में अनियंत्रित ऑटो पलटने से आधा दर्जन से अधिक लोग हुए जख्मी, कई की

  • की-बोर्ड-माउस से कभी मास्टर साहेब का पाला पड़ा नहीं , के.के. पाठक का डर ऐसा की पहुंच गए ऑनलाइन एग्जाम देने, नियोजित शिक्षक दिल के दर्द को ऐसे कर रहे बयां
  • की-बोर्ड-माउस से कभी मास्टर साहेब का पाला पड़ा नहीं , के.के. पाठक का डर ऐसा की पहुंच गए

  • नौ जिलों में सक्षमता परीक्षा आज से शुरू, दो पालियों में होगा आयोजन, विलंब से आने पर नियोजित शिक्षकों को  नहीं मिलेगा प्रवेश
  • नौ जिलों में सक्षमता परीक्षा आज से शुरू, दो पालियों में होगा आयोजन, विलंब से आने पर नियोजित

  • BIG BREAKING : कैमूर में भीषण सड़क हादसा, तेज रफ्तार स्कॉर्पियो और कंटेनर के बीच हुई जोरदार टक्कर, 9 लोगों की हुई मौत
  • BIG BREAKING : कैमूर में भीषण सड़क हादसा, तेज रफ्तार स्कॉर्पियो और कंटेनर के बीच हुई जोरदार टक्कर,

हिमालय की वादियों में पाए जाने वाले रुद्राक्ष की बिहार में हो रही खेती, लोगों को मुफ्त में बांट देते हैं यह किसान

हिमालय की वादियों में पाए जाने वाले रुद्राक्ष की बिहार में हो रही खेती, लोगों को मुफ्त में बांट देते हैं यह किसान

BETIA : रुद्राक्ष का जिक्र होते ही जेहन में उसे बड़े माला की तस्वीर उभर जाती है, जिसका प्रयोग आम तौर पर हिन्दू पर्व त्योहारों पर पूजा के दौरान किया जाता है। आम तौर पर रुद्राक्ष के पेड़ हिमालय की वादियों में पाए जाते हैं। लेकिन अब यह रुद्राक्ष के पेड़ बिहार में भी लगाने की शुरुआत हो गई है। बेतिया के एक किसान न सिर्फ रूद्राक्ष की खेती कर रहे हैं, बल्कि लोगों को यह मुफ्त में देते भी हैं। आज उनके खेत में एकमुखी रुद्राक्ष से लेकर पंचमुखी रुद्राक्ष के पेड़ मौजूद हैं।

 प.चंपारण के नरकटियागंज प्रखण्ड के बड़निहार में रहनेवाले इस किसान का नाम विजय पांडेय है। वह बताते हैं कि लखनऊ केंद्रीय औषधीय अनुसंधान केंद्र से छह_सात साल पहले पंचमुखी रुद्राक्ष का पौधा लेकर आए थे। जबकि एकमुखी रुद्राक्ष का पौधा केंद्रीय वन पर्यावरण अनुसंधान केंद्र देहरादून से लाए थे। उस समय यह कहा गया था कि बिहार में इसकी खेती संभव नहीं है। लेकिन फिर भी हमने प्रयोग के तौर पर यहां अपने खेत में इसे लगाया, यह प्रयोग सफल रहा। 

किसान विजय पांडेय बताते हैं कि अभी पंचमुखी रुद्राक्ष के दो पेड़ तैयार हो गए हैं एक पेड़ से एक क्विंटल रुद्राक्ष निकलते हैं।जिन्हें मैं लोगों को मुफ्त में बांटता हूं।मंदिरों से लेकर साधु या जो लोग भी आते हैं उन्हें बिना पैसे के देता हूं। वह बताते हैं कि उत्तराखंड से हमारे इलाके का क्लाइमेट मिलता हैं और ये पौधा हिमालय क्षेत्र में हीं होता है । प.चंपारण के बगहा से लेकर किशनगंज तक का टेंपरेचर इसके लिए अनुकूल है। उनका कहना है कि इसकी खेती के लिए 35 डिग्री तक का तापमान सबसे बेहतर होता है।

आगे की बड़ी योजना

विजय पांडेय अब रुद्राक्ष की खेती को बड़े पैमाने पर करने की तैयारी कर रहे हैं। उनका कहना है चार साल से वह इसकी खेती से जुड़े हैं। अब अगले साल करीब पांच सौ से एक हजार तक रुद्राक्ष के पेड़ को तैयार करने का लक्ष्य है। उनका कहना है कि रुद्राक्ष की खेती किसानों के लिए भी बहुत फायदेमंद है।