बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • डेब्यू मैच में ही छा गए बिहार के सासाराम के रहनेवाले आकाशदीप, तेज गेंदों का सामना नहीं कर पाए इंग्लैंड के बल्लेबाज, तीन खिलाड़ियों को किया आउट
  • डेब्यू मैच में ही छा गए बिहार के सासाराम के रहनेवाले आकाशदीप, तेज गेंदों का सामना नहीं कर

  • लोकसभा चुनाव में एनडीए बिहार में बनाएगी जीत का रिकॉर्ड, संतोष सुमन ने तेजस्वी को दी बड़ी चुनौती
  • लोकसभा चुनाव में एनडीए बिहार में बनाएगी जीत का रिकॉर्ड, संतोष सुमन ने तेजस्वी को दी बड़ी चुनौती

  • नर्सिंग की छात्रा की हुई रहस्यमय तरीके से मौत, शिकायत करने पहुंची लड़कियों को पुलिस ने दी धमकी, आक्रोशित विद्यार्थियों ने काटा बवाल
  • नर्सिंग की छात्रा की हुई रहस्यमय तरीके से मौत, शिकायत करने पहुंची लड़कियों को पुलिस ने दी धमकी,

  • पटना में होटल के कमरे में शव मिलने से मचा हड़कंप , फांसी के फंदे पर लटका  मिला युवक
  • पटना में होटल के कमरे में शव मिलने से मचा हड़कंप , फांसी के फंदे पर लटका

  • सौर ऊर्जा से जगमग होंगे सभी थाना एवं पुलिस भवन, सीएम नीतीश ने किया राज्य पुलिस एवं कारा व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण हेतु उद्घाटन एवं शिलान्यास
  • सौर ऊर्जा से जगमग होंगे सभी थाना एवं पुलिस भवन, सीएम नीतीश ने किया राज्य पुलिस एवं कारा

  • सब के ससुराले वाला पार्टी बा...लालू यादव के खाली ना... परिवारवाद के सवाल पर भड़की राबड़ी देवी, पीएम मोदी से लेकर आनंद मोहन तक को खूब सुनाया
  • सब के ससुराले वाला पार्टी बा...लालू यादव के खाली ना... परिवारवाद के सवाल पर भड़की राबड़ी देवी, पीएम

  • स्कूल टाइमिंग पर नहीं मानना है केके पाठक का आदेश, एमएलसी नीरज का ऐलान- सिर्फ सीएम नीतीश की बात मानें शिक्षक
  • स्कूल टाइमिंग पर नहीं मानना है केके पाठक का आदेश, एमएलसी नीरज का ऐलान- सिर्फ सीएम नीतीश की

  • हाजीपुर कोर्ट जा रहे दो बाइक सवार सड़क दुर्घटना के हुए शिकार, एक की मौके पर हुई मौत, दूसरा गंभीर रुप से जख्मी
  • हाजीपुर कोर्ट जा रहे दो बाइक सवार सड़क दुर्घटना के हुए शिकार, एक की मौके पर हुई मौत,

  • राजद विधायक सुधाकर की चुनौती,  बक्सर में दिखेगा प्रधानमंत्री के खिलाफ जनाक्रोश, सीएम नीतीश को भी दिया चैलेंज
  • राजद विधायक सुधाकर की चुनौती, बक्सर में दिखेगा प्रधानमंत्री के खिलाफ जनाक्रोश, सीएम नीतीश को भी दिया

  • अनुमंडल अस्पतालों में उपलब्ध कराए जाएंगे शव वाहन.. विधानसभा में नीतीश मिश्रा के सवाल पर सरकार ने दिया जवाब
  • अनुमंडल अस्पतालों में उपलब्ध कराए जाएंगे शव वाहन.. विधानसभा में नीतीश मिश्रा के सवाल पर सरकार ने दिया

मुंबई हमले के 15 साल : दहशतगर्दों ने मायानगरी में किया “आतंकवाद” का नंगा नाच, ताबड़तोड़ फायरिंग कर ली 160 लोगों की जान

मुंबई हमले के 15 साल : दहशतगर्दों ने मायानगरी में किया “आतंकवाद” का नंगा नाच, ताबड़तोड़ फायरिंग कर ली 160 लोगों की जान

N4N DESK : मायानगरी के रूप में जाने जानेवाले मुबई की वो रात आज भी शायद किसी ने भूला होगा। जब सीमा पार से आये दहशतगर्दो ने अपनी रफ़्तार में चल रही मुंबई में तांडव मचा दिया था। इस घटना में करीब 160 लोगों की मौत हो गयी थी। जबकि 300 से अधिक लोग जख्मी हो गए थे। जी हां, वो दिन था 26 नवम्बर 2008। 

दरअसल हमले से तीन दिन पहले यानी 23 नवंबर को कराची से समुद्री रास्ते से एक नाव के जरिए ये आतंकी मुंबई पहुंचे थे। जिस नाव से आतंकी भारत आए थे। उसपर सवार  चार भारतीयों को मौत के घाट उतारते हुए उस पर कब्जा किया था। रात तकरीबन आठ बजे आतंकी कोलाबा के पास कफ परेड के मछली बाजार पर उतरे। यहां से वो चार समूहों में बंट गए और टैक्सी लेकर अपनी-अपनी मंजिलों की ओर बढ़ गए थे। बताया जाता है कि जब ये आतंकी मछली बाजार में उतरे तो इन्हें देखकर वहां के मछुआरों को शक भी हुआ था। जानकारी के अनुसार मछुआरों ने इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस के पास भी पहुंचाई थी। लेकिन पुलिस ने इस पर कुछ खास ध्यान नहीं दिया। 

इसी दिन पुलिस को रात के 09.30 बजे छत्रपति शिवाजी रेलवे टर्मिनल पर गोलीबारी की खबर मिली। बताया गया कि यहां रेलवे स्टेशन के मुख्य हॉल में दो हमलावरों ने अंधाधुंध गोलीबारी की है। इसके बाद दक्षिणी मुंबई के लियोपोल्ट कैफे में भी दहशतगर्दों ने गोलीबारी की में मारे गए। जिसमें 10 लोग मारे गए। इसमें कई विदेशी भी शामिल थे। इसी दिन रात 10.30 बजे खबर आई कि विले पारले इलाके में एक टैक्सी को बम से उड़ा दिया गया है जिसमें ड्राइवर और एक यात्री मारा गया है। इससे करीब 15-20 मिनट पहले बोरीबंदर से भी इसी तरह के धमाके की खबर मिली थी। जिसमें एक टैक्सी ड्राइवर और दो यात्रियों की मौत हेने की जानकारी मिली थी। इन हमलों में तकरीबन 15 घायल हुए थे।हमलों का सिलसिला यहीं नहीं रुका। 26/11 के तीन बड़े मोर्चों में मुंबई का ताज होटल, ओबेरॉय ट्राइडेंट होटल और नरीमन हाउस शामिल था। जब हमला हुआ तो ताज में 450 और ओबेरॉय में 380 मेहमान मौजूद थे। इस घटना में जहाँ दिन रात चलनेवाली मुबई की रफ़्तार जहाँ थम गयी थी। वहीँ पूरी दुनिया के देशों ने आतंकवाद का जमकर विरोध किया था।  

हालाँकि 29 नवंबर की सुबह तक नौ हमलावर आतंकियों का सफाया हो चुका था और अजमल कसाब के तौर पर एक हमलावर पुलिस की गिरफ्त में था। जिसके बाद में फांसी दे दी गयी। इस घटना के आज डेढ़ दशक पुरे हो गए। लेकिन इसकी टीस आज भी बनी हुई है। इतिहास के पन्नों में यह काला दिन के तौर पर जाना जाता है।